सीएम मोहन और शिवराज ने किया बड़ा फ़ैसला, लाडली बहनों को नहीं मिलेगी आठवीं (8th) किस्त 27 हजार से अधिक बहनें हुई योजना से बाहर

WhatsApp Group Join Now

सीएम मोहन और शिवराज ने किया बड़ा फ़ैसला, लाडली बहनों को नहीं मिलेगी आठवीं (8th) किस्त 27 हजार से अधिक बहनें हुई योजना से बाहर

Ladli Behna Yojana Reject List : मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा शुरू की गई लाडली बहना योजना अब लगभग 9 महीने की हो गई है, और इस योजना से बहनों को पहली किस्त 10 जून 2023 को दी गई थी, हाल ही में बहनों को योजना की 8वीं किस्त का पैसा 10 दिसंबर को बहनों के खाते में डाला जाएगा और अब बहनों को योजना की आठवी किस्त का इंतजार हैं, आपको बता दें योजना की किस्त को राशि को 3000 तक बढ़ाने के बारे में घोषणा पूर्व मुख्यमंत्री के द्वारा की गई थी।

परंतु प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री डॉ मोहन लाल यादव के द्वारा योजना की किस्त की राशि में बढ़ोतरी को लेकर कोई नया बयान नहीं आया है, और बहनों को किस्त की राशि ₹3000 महीना प्राप्त करने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ सकता है, योजना के इसी 9 महीने के अंतराल में कुछ महिलाएं योजना के नियमों के अनुसार अपात्र हुई हैं जिससे योजना में पात्र आवेदकों की संख्या में थोड़ी सी कमी आई हैं।

लाडली बहना योजना 27 हजार से अधिक बहनें अपात्र

आपको बता दे लाडली बहना योजना में प्राप्त कुल आवेदको की संख्या 1,25,33,147 हैं, जिसमें से कुल पात्र हितग्राहियों की संख्या 1,25,05,947 हैं, यह जानकारी आप लाडली बहना योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर भी देख सकते हैं, प्राप्त आवेदन की संख्या और पात्र आवेदन की संख्या में कुल 27,198 ऐसी बहनें हैं, जिनके नाम योजना के लिए सही दस्तावेज या सर्वर की वजह से काटे गए है, आपको बता दे जिन बहनों को इस योजना को पहली किस्त से पैसा मिल रहा हैं, उन बहनों को सभी किस्त का पैसा मिलेगा।

लाडली बहना योजना इन बहनों को भी योजना से हटाया जायेगा

इसके अलावा आपको बता दे योजना में कुछ ऐसी बहनों के नाम भी कम हुए हैं, जिन्होंने योजना में नियमों को पूरा नहीं करने पर लाभ परित्याग का फॉर्म भरकर योजना से लाभ परित्याग किया है, आपको बता दें जिन बहनों ने योजना में लाभ का परित्याग किया है, उन्हें भविष्य में लाडली बहना योजना से लाभ नहीं मिलेगा, और उन्हें आवेदन करने का मौका नहीं दिया जाएगा, लाडली बहना योजना आठवी किस्त से पहले महिला एवम बाल विकास विभाग के द्वारा एक आदेश जारी कर योजना मैं पात्र बहनों की सूची मांगी हैं।

जानें इस अपात्रता का क्या कारण है?

मध्य प्रदेश में लाडली बहना योजना को आरंभ करने का राज्य सरकार का प्रमुख उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की महिलाओं सशक्त और आत्मनिर्भर बनाना था, इसलिए लाडली बहना योजना का लाभ आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की महिलाओं को ही दिया जाएगा, क्योंकि इस योजना में अनेक महिलाएं ऐसी है, जो इस योजना के लिए पात्र नहीं है, इसके अलावा कुछ बहनें तो ऐसी है, जिन्होंने धोखाधड़ी से या गलती से गलत जानकारी भरकर योजना में अपना नाम जुड़वा लिया है, उन सभी महिलाओं को जांच के बाद लाडली बहना योजना से हटाया जा रहा है, इससे योजना मैं पात्र हितग्राही की संख्या में कमी देखने को मिल रही हैं।

इसे भी पढ़े – अभी अभी जारी हुआ लाडली बहना योजना 8वीं किस्त को लेकर बड़ा अपडेट, अब बहनों को मिलेंगे इतने रुपए

Leave a Comment